21 जून को लग रहा है साल का सबसे पहला सूर्य ग्रहण, जानिए भारत में इसका असर……………

21 जून को सुबह 9 बजकर 16 मिनट पर शुरू होगा, सूर्यग्रहण । सूतक काल में 20 जून से बंद हो जाएंगे मंदिर l


इस बार साल के सबसे बड़े दिन यानी 21 जून को दुर्लभ खगोलीय घटना होगी। रविवार आषाढ़ अमावस्या को वलयाकार सूर्य ग्रहण लगेगा। इसे ‘कंकणाकार ग्रहण’ भी कहते हैं। यह सूर्य ग्रहण देश के कुछ भागों में पूर्ण रूप से दिखाई देगा। यह साल 2020 का पहला सूर्य ग्रहण भी होगा। रविवार को, आषाढ़ अमावस्या के दिन यह ग्रहण पड़ रहा है। यह ग्रहण 21 जून को भारत के अधिकांश इलाकों में देखा जा सकेगा।

सूर्य ग्रहण का समय


21 जून को सूर्य ग्रहण दिन में 9:16 से प्रारंभ होगा। इसका समापन दोपहर 12:10 पर होगा। मोक्ष दोपहर में 3 बजकर 04 मिनट पर होगा।

ग्रहण का सूतक काल


सूतक काल 20 जून शनिवार रात 9:15 से प्रारंभ हो जायेगा। इसी के साथ शहर के मठ-मंदिरों के पट भी बंद हो जाएंगे। आपको बता देें कि ज्योतिषशास्त्री ग्रहण के 12 घंटे पहले और 12 घंटे बाद तक के समय को सूतक काल मानते हैं।

सूतक काल में न निकलें घर से


21 जून को दिन में ग्रहण लग रहा है। 20 जून की रात से ही सूतक आरंभ हो जाएगा इसलिए जिस दिन से सूतक काल आरंभ हो उसके बाद घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए l

वलयाकार होगा ग्रहण


जवाहर तारामंडल के निदेशक डॉ. रवि किरन ने बताया कि सूर्य ग्रहण की स्थिति वलयाकार रहेगी। यह न पूर्ण होता है न ही आंशिक। प्रयागराज में सूर्यग्रहण 78 प्रतिशत ही दिखाई देगा। हरियाणा के कुरुक्षेत्र, सिरसा, राजस्थान के सूरजगढ़, देहरादून और चमोली में पूरा सूर्यग्रहण दिखाई देगा। उन्होंने कहा कि चन्द्रमा अपने कक्ष में अंडाकार घूमता रहता है। चन्द्रमा से सूर्य की दूरी अधिक होने से दोनों का आकार बराबर दिखाई देता है। 21 जून को ही सूर्य कर्क रेखा के ठीक मध्य में होगा। यह साल का सबसे बड़ा दिन है।

ग्रहण के समय निकलने वाली ऊर्जा से बचें


ग्रहण के समय ग्रह पीड़ित हो जाता है। ग्रहण के समय कई प्रकार की नकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न होती है जो बुरा प्रभाव डालती है । इसलिए इस ऊर्जा से बचना चाहिए, क्योंकि ये ऊर्जा मनुष्य की सेहत पर प्रतिकूल प्रभाव डालती हैं। इसीलिए ग्रहण के बाद स्नान करना चाहिए l

भोजन न बनाएं, न खाएं


ग्रहण के समय भोजन नहीं बनाना चाहिए और न ही भोजन करना चाहिए। वहीं गर्भवती महिलाओं को भी इस दौरान घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए l

धन्यवाद।