आज देश में हिंदुओं के नाश का सिर्फ एक ही कारण है और वो है मुर्दापरस्ती या प्रेत पूजा ! #HinduArmyChief #हिन्दुआर्मी #सुशीलतिवारी

*#मुर्दापरस्ती / प्रेत पूजा !!*

🙄👆🏼 आज देश में हिंदुओं के नाश का सिर्फ एक ही कारण है और वो है मुर्दापरस्ती या प्रेत पूजा ! #हिन्दुआर्मी #सुशीलतिवारी

जिस भी हिन्दू परिवार या वंश ने मुर्दापरस्ती / प्रेत पूजा शुरू करी, उस परिवार की तीसरी पीढ़ी तक या तो खुद ही सब कुछ बर्बाद कर लिया या फिर किसी ने उनको बर्बाद कर दिया। #hinduarmychief

*प्रश्न:* – आखिर यह मुर्दापरस्ती / प्रेत पूजा होती क्या है ? कौन से हिन्दू इसे करते है ? क्या यही है विनाश काले विपरीत पूजा ? #sushiltiwari

उत्तर – हिन्दुओं द्वारा परमात्मा को भूलकर पीर, फकीर, मुल्ला साई की पूजा की जा रही है, पिशाच संस्कृति के राक्षसों को नक़ली मंदिरों में स्थापित किया जा रहा है , हिंदू घरों में फ़ोटो लगाएँ जा रहे उस फ़ोटो को पूजा जा रहा है, फिर भी पूछते हो कि विनाश काले विपरीत पूजा क्या है ?

कोई भी कब्र या मजार किसी मरे हुए गैर हिन्दू की ही होती है, क्योकि हिन्दओं के मृत्यु पश्चात संस्कार में शवदहन होता है।
#hinduarmy
हिंदू समाज में अगर कोई व्यक्ति मरने वाले के पीछे चार कदम भी रखता है तो उसे घर आ कर स्नान करना पड़ता है। #hindurashtra

फिर भी हम मजार पर चढ़ा चढ़ावा बच्चों को क्यों खिलाते हैं क्या वह अपवित्र नहीं है ! Hinduarmychief

प्राय सभी कब्रें उन मुसलमानों की हैं जो हमारे पूर्वजो से लड़ते हुए मारे गए थे, इस हालत में उनकी कब्रों पर जाकर मन्नत मांगना क्या हमारे उन वीर पूर्वजों का अपमान नहीं हैं जिन्होंने अपने धर्म की रक्षा करते हुए खुशी-खुशी अपने प्राणों को बलि वेदी पर समर्पित कर दिया था ? #Chiefhinfuarmy

बहराईच उत्तर प्रदेश में गाजी मियाँ की मजार है जिसको पूजने के लिए देश के कोने कोने से हिंदू आते है।
👆🏼
इतिहास का थोडा सा भी जानकार व्यक्ति जानता है कि महमूद गजनवी के उत्तर भारत को बुरी तरह से लूटने और बर्बाद करने के बाद सन् 1030 में उसके भांजे सालार गाजी ने भारत को दारूल इस्लाम बनाने के उद्देश्य से भारत पर आक्रमण किया और सिन्ध, पंजाब, हरियाणा को रौंदता हुआ उत्तर प्रदेश के बहराईच तक जा पहुँचा। hinduarmy

रास्ते में लाखों हिंदुओं का कत्लेआम किया, लाखो हिंदुओं को इस्लाम में धर्मांतरित किया और लाखों हिंद औरतों के बलात्कार हुए, हजारों मंदिरों- गुरुकुलों का विध्वंस कर दिया गया तथा इस्लाम के जिहाद की आंधी तेज चलने लगी। #sushiltiwari

ऐसे संकट के समय में बहराइच के राजा सुहेलदेव जी ने गाजी मियाँ की सेना का सामना किया जिसमें एक दिन में ही गाजी मियाँ का 5 लाख से अधिक सैनिक मारे गए और साथ मे सालार गाजी मारा गया। #hinduarmy

सलार गाजी के सेनापति ने वहीं उसकी कब्र बनवा दी, जिसको मूर्ख हिंदू आज अपने कुल देवता मानकर पूजते है और हिन्दू राजा सुहेलदेव जी को भूल गये ।
अगर गाजी जिंदा रहता तो वह हिंदुओं का और कत्लेआम करता। @chiefhinduarmy

ऐसा ही चरित्र अजमेर ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती का है।

ख्वाजा मोहम्मद गौरी के साथ भारत आया था,ख्वाजा ने छल कपट से हिंदुओं को मुसलमान बनाया तथा हिंदुओं के मंदिरों को नष्ट करवाया था।

और ऐसे ही कार्य दिल्ली में पीर निजामुद्दीन औलिया ने किया था।

जिसने जितना ज्यादा हिंदुओं का कत्लेआम किया, हिंदुओं को इस्लाम में धर्मांतरित किया वो उतना बड़ा पीर।

यहाँ वहाँ, सड़कों के किनारे नाजायज कब्जे कर के रातों रात नये नये नामों से मजारों का निर्माण कर दिया जाता है।

आजकल की नई मज़ारों में तो जानवर दफनाये हुए है, और मूर्ख हिन्दू इन मज़ारों पर भी माथा रगड़ रहे है।

मज़ारों और मुर्दापरस्ती का यह धनदा गजवा ऐ हिन्द की साज़िश के तहद किया जा रहा है, जो भी इन मज़ारों से पैसा आता है, वो हिन्दू विरोधी कार्यों में लगाया जाता है, और मूर्ख हिन्दू ही इसे फाईनेंस कर रहे है।

क्या हिन्दुओं के ब्रह्मा, विष्णु, महेश, राम, कृष्ण, हनुमान, गणेश ,दुर्गा अथवा तेतीस कोटि देवी – देवता शक्तिहीन हो चुकें हैं, क्या उनमें एक भी ऐसा देवता नहीं जिसे हमारे यह मूर्ख हिन्दू अपना देवता मान सकें। @hinduarmychief

हिन्दुओं के लिए तो शव (कब्र) पूजा या मुर्दापरस्ती का अर्थ है प्रेत योनि की दुर्गति, किसी भी शव की पूजा चाहे वह मजार ही का हो। @hinduarmychief

इसलिए हिंदू समाज को इन मजारों, कब्रों, पीरों की पूजा बंद करनी चाहिए।

केवल और केवल उस परमपिता परमेश्वर की पूजा करनी चाहिए जो सभी के दिलों में बसता है।

सभी हिंदुओं से निवेदन है कि इस पोस्ट को आगे भेजते रहिये धर्म मार्ग से भटके हुए हिंदुओं को जगाते रहिये…
जय महाकाल🙏🔱🙏
Hindu army chief sushil tiwari www.hinduarmy.org

0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published.